हरिद्वार

शराब पीने से मना करने पर पत्रकार को पीटा,मारपीट करने वाले ने खुद को बताया अधिकारी

हरिद्वार।
कोतवाली ज्वालापुर क्षेत्र में अखबार के कार्यालय के नीचे कार में शराब पी रहे तीन लोगों को पत्रकार ने टोका तो शराब पीने वाले व्यक्ति ने खुद को आईएएस अधिकारी बताते हुए पत्रकार के साथ मारपीट की। मारपीट में पत्रकार को चोटें आ गयी। पीडि़त ने मारपीट करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध  तहरीर देकर पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मामला दर्ज का मारपीट करने वालों की तलाश शुरु कर दी है।
कोतवाली ज्वालापुर अंतर्गत रानीपुर क्षेत्र में वुुडलैंड शोरूम की ऊपरी मंजिल में अखबार का कार्यालय है। गत रात्रि कार्यालय से काम कर घर लौट रहे पत्रकार जोगेन्द्र सिंह मावी निवासी मिस्सरपुर कनखल ने आफिस के नीचे सरेराह कार में बैठे कुछ युवक शराब पी रहे थे । आफिस के सामने शराब पीने को मना किया तो एक युवक कार से निकला और मुझसे अपने को आईएएस अधिकारी बताया व अपनी पत्नी को सचिवालय में अधिकारी बताकर अपने साले को किसी जिले का एसएसपी बताते हुए देख लेने की धमकी देते मेरे साथ मारपीट करते हुए जानलेवा हमला कर दिया । पत्रकार ने जान बचाने के लिए अपने आफिस में जाने का प्रयास किया। मारपीट करने वाला  खींचते हुए आफिस में ही घुस गया और अंदर भी मारपीट करते हुए खींचकर बाहर ले आया । नीचे साथी भी खडे थे और साथियों के साथ मारपीट की। उसी दौरान अखबार के संपादक विकास गर्ग  आफिस बंद करने के लिए पहुंचे । उन्होने मुझे मारपीट कर रहे युवक से बचाया। घायल पत्रकार को उपचार के लिए जिला अस्पताल ले गए। चिकित्सकों ने उपचार के बाद छुट्टी दी। पीडि़त पत्रकार की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मारपीट करने वालों की तलाश शुरु कर दी है।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उत्तराखंड

जमीन विवाद को लेकर ग्रामीणों में फायरिंग पांच के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज लक्सर। जमीनी विवाद को लेकर ढाढेकी व कुआंखेड$ा के ग्रामीणों के बीच हुई फायरिंग व संघर्ष के मामले में पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया है। कुंआखेड$ा गांव निवासी किसान ने ढाढेकी गांव के पांच लोगों के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार कुंआखेड$ा गांव निवासी मांगेराम ने पास के गांव ढाढेकी के रकबे में खेती की कुछ जमीन ले रखी है। मांगेराम ने यह जमीन ढाढेकी के एक परिवार को हिस्से पर खेती करने के लिए दी थी। हिस्सेदार ने उस पर गेहूं बो रखा था। बताया गया है कि हिस्सेदार ने पहले तो भूमि के मालिक मांगेराम को हिस्सा दिए बिना गेहूं की सारी फसल काटकर बेच दी। इसके बाद उसने जमीन पर गन्ना बोना शुरू कर दिया। इसकी जानकारी मिलने पर मांगेराम अपने चचेरे भाई कर्ण सिंह व भतीजे विक्रांत के साथ ट्रैक्टर लेकर खेत पर चला गया। वहां दूसरे पक्ष के कई लोग पहले से मौजूद थे। आरोप है कि दूसरे पक्ष के लोगों ने मांगेराम और उसके साथ के लोगों पर हमला कर दिया। वह जान बचाने को ट्रैक्टर पर बैठकर भागने लगे तो हमलावर पक्ष ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। गनीमत रही कि गोली ट्रैक्टर पर सवार लोगों को नही लगी बल्कि ट्रैक्टर के टायरों में लगी। जिससे टायर फट गया। मांगेराम द्वारा सूचना दिए जाने पर कोतवाली पुलिस ने पहले घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली। इसके बाद पुलिस ने ढाढेकी में हमलावरों के घर दबिश दी। किंतु आरोपित पुलिस के हत्थे नही चढ$ पाए। कोतवाली के एसएसआई मनोज सिरोला ने बताया कि मामले में मांगेराम की तहरीर के आधार पर कर्णपाल, संजय पुत्र भंवर सिंह, अंकित पुत्र कर्णपाल, सचिन पुत्र कालहर, भंवर सिंह पुत्र आशाराम निवासी ढाढेकी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।